Sunday, July 27, 2014

Home

मीर तक़ी मीर और मिर्ज़ा ग़ालिब की ग़ज़लों, अश'आर और रुबाइयों का संकलन  (कार्य प्रगति पर है)

उर्दू के कुछ अक्षर देवनागरी में नहीं हैं, उनको पढ़ने और उच्चारण की विधि इस प्रकार है:

इज़ाफ़त (-ए-)

जुंबिश-ए-लब = जुंबिशे-लब

'अत्फ़ (-ओ-)

अदा-ओ-नाज़ = अदाओ-नाज़

ऐन (')

'आशिक़
'इश्क़
म्`

छोटी हे (:)

दीद: = दीदा
दीद:-ए = दीदए
दीद-ओ = दीदओ


शेर-ओ-शायरी के प्रेमी ये ब्लॉग भी ज़रूर देखें: बज़्म-ए-अदब